लोड हो रहा है...
फीडर फंड: बैंक की लाभकारी प्रणाली के पीछे का इंजन
11 महीनाs पहले द्वारा Gabriel Kowalski

बैंक राजस्व की यांत्रिकी: फीडर और मास्टर फंड का स्पष्टीकरण

वित्तीय दुनिया में हमेशा बदलते माहौल में बैंक की कमाई को समझना महत्वपूर्ण है। फीडर फंड प्रणाली एक रोचक अवधारणा है, जो बैंकों द्वारा संसाधनों को एकत्रित करने और कुशल निवेश रणनीति को सुविधाजनक बनाने के लिए उपयोगी उपकरण है। इस लेख में, हम फीडर फंडों के कामकाज, मास्टर फंड के साथी संबंध, और इस वित्तीय संरचना के बैंक राजस्व उत्पादन पर कैसा प्रभाव पड़ता है, उसकी गहराई में उतरेंगे।

फीडर फंड की अवधारणा

सारांश में, फीडर फंड एक उप-फंड होता है जो अपने सभी निवेश संसाधनों को एक मास्टर फंड में एकत्रित करता है। इस द्विताली संरचना को आमतौर पर हेज फंड द्वारा उपयोग में लाया जाता है ताकि निवेश पूंजी को एकत्रित किया जा सके।

मास्टर फंड उपनिवेश सभी पोर्टफोलियो निवेशों और ट्रेडिंग रणनीतियों का प्रबंधन करता है, एक ही निवेश सलाहकार की विशेषज्ञता का लाभ उठाता है। इस संरचना के लाभ फीडर फंड को मास्टर फंड के प्रभावशाली योगदान के हिसाब से आवंटित किए जाते हैं।

फीडर फंड प्रणाली की समझ

फीडर फंड-मास्टर फंड संरचना का मुख्य लाभ इसमें संचालनिक प्रभावशीलता और लागत प्रभावशीलता है। फीडर फंड से एकत्रित पूंजी मास्टर फंड को मापदंडों की आय का उपयोग करके आयोजित करती है, जिससे ट्रेडिंग लागतों में कटौती की जाती है।

जबकि यह मॉडल समान निवेश उद्देश्यों वाले फीडर फंड के लिए अत्यधिक लाभदायक है, ऐसे स्थितियों में यह फंड अद्वितीय रणनीति वाले फंडों के लिए उपयुक्त नहीं हो सकता। ऐसे स्थितियों में, फीडर फंड की विशेष विशेषताओं को संयुक्त पोर्टफोलियों में खो जाने का खतरा हो सकता है।

फीडर और मास्टर फंडों का संरचनात्मक अवलोकन

फीडर फंड, हालांकि वे मास्टर फंड में निवेश करते हैं, अलग-अलग कानूनी इकाइयों के रूप में कार्य करते हैं। वे अपने निवेशों को कई मास्टर फंडों में वितरित कर सकते हैं। उसी तरह, एक मास्टर फंड विभिन्न फीडर फंडों से संसाधनों को स्वीकार कर सकता है, जिससे इंटरकनेक्टेड निवेशों का एक जाल बनता है।

प्रत्येक फीडर फंड की व्यवहारिक विशेषताएं जैसे खर्च शुल्क या निवेश न्यूनतम, इस कारण विभिन्न नेट एसेट मूल्यों (NAVs) का असमान नुकसान हो सकता है। मास्टर फंड अक्सर खासकर संयुक्त राज्य में अपने आप को बाहरी इकाइयों के रूप में स्थापित करते हैं। यह व्यवस्था उन्हें कर छूट योग्य और अमेरिकी कर लागू करने वाले निवेशकों से पूंजी एकत्र करने की अनुमति देती है, जबकि वह डबल कर रहा है।

हाल के विनियमों की विकास

2017 में, प्रमाण आयोजन और विनियमन आयोग (SEC) ने महत्वपूर्ण संशोधन किए, जिनके अनुसार विदेशी फीडर फंडों को अमेरिकी आधारित खुले अंत वाले मास्टर फंड में निवेश करने की अनुमति दी गई। इस बदलाव का उद्देश्य था अंतर्राष्ट्रीय पोर्टफोलियो प्रबंधकों को अपने उत्पादों का प्रचार करने में मदद करना।

SEC के कार्यवाही का उद्देश्य निवेशकों के हितों की संरक्षा थी, मास्टर फंड को अधिकारियों के द्वारा अधिक मार्गन से प्रभावित करने से रोकने, और उन्हें जटिल फंड संरचनाओं और स्तरबद्ध शुल्कों से संरक्षित करना।

बैंक फीडर फंड जैसे वित्तीय साधनों का उपयोग करके अपनी राजस्व उत्पादन प्रक्रिया को सुव्यवस्थित करते हैं, कुशल निवेश रणनीतियों को सुविधाजनक बनाने और संचालन दक्षता प्राप्त करने का लाभ उठाते हैं। यह दो-स्तरीय संरचना हेज फंड की निवेश रणनीतियों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, जो सीधे बैंक के लाभ मार्जिन को प्रभावित करती हैं। नियामकीय मंच के विकास से यह संरचना आगे बढ़ती हुई है और निवेशक संरक्षा और पारदर्शिता को महत्व देती है।


  • इस लेख को साझा करें
Gabriel Kowalski
Gabriel Kowalski
लेखक

गैब्रियल कोवाल्स्की एक अभिज्ञ ट्रेडर, वित्तीय रणनीति विशेषज्ञ और एक आकर्षक लेखक हैं। विदेशी मुद्रा व्यापार, तकनीकी विश्लेषण और वित्तीय क्षेत्र में 15 साल से अधिक का अनुभव रखने वाले गैब्रियल का ज्ञान व्यापक और बहुमुखी है। उन्हें बाजार की रुझानों के बारे में समझने और जटिल वित्तीय अवधारणाओं को सरल तरीके से समझाने की क्षमता के लिए मान्यता प्राप्त है। उनके विशेषताएं शामिल हैं विदेशी मुद्रा व्यापार, बाजार समाचार और आर्थिक प्रवृत्तियाँ। Investora में गैब्रियल का प्रमुख उद्देश्य पाठकों को विश्वसनीय वित्तीय निर्णय लेने के लिए आवश्यक ज्ञान प्रदान करना है। जब वे वित्तीय बाजारों को विश्लेषण करने के लिए नहीं होते हैं, तो गैब्रियल हाइकिंग और फोटोग्राफी का आनंद लेते हैं।


संबंधित लेख खोजें